गुरुवार, 21 जनवरी 2021

ये सौंधापन तुम्हारी बातों जैसा है


सुबह कभी खेत में फसल के बीच क्यारियों में देखता हूँ तो तुम्हारी बातों के सौंधेपन के साथ जिंदगी का हरापन भी नज़र आ ही जाता है...। सोचता हूँ मुस्कान और हरेपन में कोई रिश्ता है तभी तो दोनों एक नेक समाज को गढ़ते हैं। फसल की क्यारी के बीच मिट्टी की महक घर की तरह होती है। घर और खेत की मिट्टी में एक मानवीय रिश्ता है जो केवल महकता है और महसूस किया जा सकता है...। कभी उस मिट्टी पर पैरों को गहरे गढ़ाकर खूब खेला करते थे, बारिश में बचपन के वो कच्चे मकान आज तक टिके हैं...। मन उन बचपन के कच्चे घरों में आज भी बसता है, तुम्हें बताऊँ क्योंकि तुम जीवन का हिस्सा हो और मिट्टी भी हमारे जीवन अहम भाग है...। आओ बचपन के घर तक घूम आते हैं, दोनों...क्या पता बचपन के साथी भी रास्ते में मिल जाएं...। तुम बतियाती रहना क्योंकि वो हरापन लिए होता है...। खेत पर टहलते हुए कुछ यादें अब भी महकती हैं...।

25 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही सुंदर .. ब्लॉग जगत में आपका स्वागत है।
    अनंत शुभकामनाएं

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी आभार आपका सीमा जी...। ब्लॉग आपकी वजह से संभव हो पाया है सदा आपका आभारी रहूंगा।

      हटाएं
  2. गूगल फालोव्हर कको गेजेट लगाइए
    सादर

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी यशोदा जी...। आभार आपका और आपका सहयोग भी प्रार्थनीय है।

      हटाएं
  3. गूगल फालोव्हर का गेजेट लगाइए

    जवाब देंहटाएं
  4. ब्लॉग सेटिंग कीजिए
    हर किसी को नहीं दिखेगा

    जवाब देंहटाएं
  5. Sensitive Content Warning
    This blog may contain sensitive content. In general, Google does not review nor do we endorse the content of this or any blog. For more information about our content policies, please visit the Blogger Community Guildelines.

    I UNDERSTAND AND I WISH TO CONTINUE... I do not wish to continue
    कृपया सेटिंग में जाकर.इसकी सेटिंग करें।।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. यशोदा जी अब तक आपका बहुत सहयोग मिला है, लेकिन एक और सहयोग चाहिए कि मैं दूसरे साथी ब्लॉगर की पोस्ट देख पा रहा हूं लेकिन उन्हें कमेंट नहीं कर पा रहा हूं...कैसे संभव हो पाएगा कृपया मार्गदर्शन कीजिएगा....। आभार आपका

      हटाएं
  6. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन  में" आज शुक्रवार 22 जनवरी 2021 को साझा की गई है.........  "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत आभार आपका...। सहयोग बनाए रखियेगा।

      हटाएं
  7. बहुत बढ़िया लिखा सर। आपको बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत ही भावपूर्ण लेख है संदीप जी. माटी की महक से सराबोर मन का संवाद और सुंदर उद्बोधन बहुत रोचक और भावों से भरा हुआ है.

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. रेणु जी बहुत आभार...। सहयोग बनाए रखियेगा।

      हटाएं
  9. अपनी ओर आकर्षित करती हुई आपकी लेखनी हेतु बधाई।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत आभार पुरुषोत्तम जी। सहयोग बनाए रखियेगा।

      हटाएं
  10. उत्तर
    1. बहुत आभार शांतनु जी। सहयोग बनाए रखियेगा।

      हटाएं
  11. वाह सचमुच गद्य में पद्य जैसी सरस अनुभूति।
    सौंधी माटी जैसी।
    स्वागत है आपका अपनों के बीच।
    सुंदर सृजन।

    जवाब देंहटाएं

प्रेम प्रतिबिंब होता है

  यकीन कीजिए प्रेम प्रतिबिंब होता है और मैं ऐसा क्यों कह रहा हूँ क्योंकि आप देखिएगा किसी सुर्ख गुलाब को देखने पर ही हमारे अंदर भाव अनुभूति ब...