बुधवार, 10 अगस्त 2022

‘बाढ़ ढोते शहर’ दोषी कौन...?

 
राष्ट्रीय मासिक पत्रिका ‘प्रकृति दर्शन’ का अगस्त माह का अंक तैयार है....तकनीकी कारणों से देरी से आ रहा है इसलिए क्षमाप्रार्थी हैं। आवरण पर ख्यात वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफर अखिल हार्डिया, इंदौर, मप्र का फोटोग्राफ है...। अंक इस लिहाज से महत्वपूर्ण है क्योंकि बाढ़ अब एक चुनौती बनती जा रही है, हमने सवाल उठाए हैं कि क्या केवल नदियां दोषी हैं बाढ़ के लिए....या हमें नगर नियोजन की समझ कम हैं या हमारा नगर नियोजन ठीक होना चाहिए...? महत्वपूर्ण सवाल उठाता यह अंक देखिएगा...।
यह अंक ऐप भी उपलब्ध है...ऐप आप गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड कर सकते हैं..। ऐप पर पत्रिका के कुछ अंक पूरी तरह से निःशुल्क हैं। आप यदि पहली बार पत्रिका देख रहे हैं और पढ़ना चाहते हैं तो आप अपना व्हाटसऐप नंबर 8191903651 पर भेज सकते हैं, अपने संपूर्ण परिचय के साथ, ये भी लिखिएगा आप पाठक हैं या लेखक हैं। 
आभार...


संदीप कुमार शर्मा
संपादक, प्रकृति दर्शन, राष्ट्रीय मासिक पत्रिका


 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

प्रेम प्रतिबिंब होता है

  यकीन कीजिए प्रेम प्रतिबिंब होता है और मैं ऐसा क्यों कह रहा हूँ क्योंकि आप देखिएगा किसी सुर्ख गुलाब को देखने पर ही हमारे अंदर भाव अनुभूति ब...